गली क्रिकेट और गली क्रिकेट के नियम नियम: भारत का एक रोचक खेल, जिसके बारे में आप जानना चाहते है|

गली क्रिकेट का नाम आते ही हर भारतीय को बचपन की याद आती है| यह एकमात्र ऐसा खेल है जो हर किसी ने कभी ने कभी जरुर खेला है| जीतना रोचक यह खेल है उतने ही रोचक और खतरनाक गली क्रिकेट के नियम जिसे सुनकर आप रोमांचित हो जाते हैं|

गली क्रिकेट के कठिन नियमों की प्रमुख वजह:

भारत एक ज्यादा आबादी वाला देश है ऐसे में महानगरों, शहरों और गावों के भीतर खेल के लिए प्रयाप्त जगह नहीं होती है| ऐसे में बच्चे और जवान सभी इन्हें तंग गलियों में खेलने से नहीं चुकते|

गलियों में खेलने के कारण इसका नाम गली क्रिकेट पड़ा| यह क्रिकेट का ही प्रारूप है लेकिन नियम समय की मांग के हिसाब से कुछ भी बना लिए जाते है|

इसके रोचक होने और इनके कठिन नियमों की बड़ी वजह वहां के लोग होते हैं| अक्सर लोग अपने घरों में गेंद आने पर या तो गेंद वापस नहीं करते या फिर लड़ाई के लिए उतर आते है|

शहरों में कारों और खिड़कियों के शीशे टूटने के डर से और उससे होने वाले जगड़े के डर से ऐसे नियम बनाए जाते है| जिससे बल्लेबाज सिमित जगह में खेलने के लिए मजबूर हो जाता है और अगर गलती से नियम के बाहर जाकर या छक्का मारने के चक्कर में वह आउट हो जाता है|

कई जगह तो छक्के लगाने पर भी प्रतिबन्ध होता है जिससे की गेंद के बहार जाने और नुकसान करने का डर ख़त्म हो जाता है|कई बार इसे बंद घर में और घर पर बनी गिलहरियों, छतों और खाली कमरों में भी खेल लिया जाता है|

मुझे आज भी मेरे होस्टल के दिन याद है मेरा होस्टल स्कूल के भीतर ही था| हम वार्डन की अनुपस्थिति में स्कूल के खाली कमरे को ही मैदान बनाकर खेल लिया करते थे|

यह भी पढ़ें: सचिन तेंदुलकर की “फेवरेट कैमरामैन” ने मुंबई की बारिश का आनंद लिया

गली क्रिकेट की रोचक गेंद, जो हमें तंग आकर बनानी पड़ी:

गली क्रिकेट और गली क्रिकेट के नियम

बच्चे उस स्थिति में भी क्रिकेट खेलना नहीं छोड़ते जब उनकी गेंदे लगातार खो रही है या जब्त हो रही है| मुझे याद है जब हमारे बाड़े के एक पड़ोसी जो हमारी गेंदे रोज जब्त करने लगा| हम हर रोज नई गेंद नहीं ला सकते थे तो ऐसे में तंग आकर हमने घर में पड़े कपड़ों की रद्दी को समेट कर उस पर धागे से शानदार घुन्थाई कर एक अच्छ गेंद बनाने लगे और उससे खेलने लगे|

जिससे की हमारे पैसे बच सके और जब्त होने पर भी बिना टेंसन लगातार खेल सके| हम एक गेंद के रद्दी कपड़ो को हमेशा साथ रखते थे| ताकि मैच के बीच में गेंद जब्त होने के बाद भी नई गेंद बनाकर खेल सके|

गली क्रिकेट से जुडी मेरी बहुत सी घटनाएं आपके साथ शेयर करना चाहता हूँ लेकिन सबकों लिखने के लिए ना तो मेरे पास समय और न ही आपके पास पढ़ने का धैर्य, इसके अलावा कहानी ज्यादा लम्बी होने की स्थिति में बोरिंग भी हो जाती है| वैसे भी यह मेरे अकेले की नहीं बाकि हर क्रिकेट प्रेमी भारतीय की कहानी है, ऐसे में सबको पता है|

तो आइये मुद्दे पर आते है और गली क्रिकेट के रोचक नियमों के बारे में जानते है| यह गली और मोहल्ले की आबादी और लोगों के हिसाब से बदलते रहते है|


This post sponsored by Sai Furniture and aluminum


गली क्रिकेट के रोचक होने की वजह:

गली क्रिकेट का टॉस:

टॉस एक दो-रूपए के सिक्के से ही होता है लेकिन कभी सिक्का नहीं होने की स्थिति में फ्लैट पत्थर मटकी के टुकड़े आदि से कर लिया जाता है| इसके एक तरफ से गिला करके इसको पहचाना जाता है|

गली क्रिकेट के विकेट:

विकेट के लिए पास में किसी बाड़ या कचरे में से 3 लकड़ियाँ लेकर उसको बतौर विकेट उपयोग में कर लेते है| कई बार विकेट की जगह पत्थर भी लेते है|

गली क्रिकेट का बल्ला:

क्रिकेट के इस फॉर्मेट का बल्ला किसी भी तरह का होता है| मार्केट में मिलने वाले बैट के अलावा घर पर और खाती द्वारा बनाया गया लकड़ी के बैट का प्रयोग कर लिया जाता है|

गली क्रिकेट की गेंद:

 

Gully cricket ball

आम तौर पर टेनिस या कॉस्को या रबर की गेंदों का इस्तेमाल होता है| लेकिन कई बार गेंदे ज्यादा गुमने की स्थिति में इसका नया रूप भी देखने को मिल जाता है| जिसमें कचरे या रद्दी के कपड़े से बनी गेंद का प्रयोग कर लिया जाता है|

गली क्रिकेट का मैदान:

यह खेल मैदान के बजाय महल्लों, सड़को, पार्क और गलियों में खेला जाता है|

 

गली क्रिकेट के प्रमुख नियम:

#1. मैदान के बाहर आउट: शहरों में कॉलोनी के बीच अगर पार्क होता है तो पार्क के बाहर आउट करार दिया जाता है| और अगर गली में         खेल रहे है तो किसी भी दीवार के सीधी (बिना बाउंस या बिना टप्पे) दीवार पर लगने पर आउट|

#2. गेंद की गति और गेंदबाजी का नियम: गेंद की गति ज्यादा तेज नहीं हो सकती| अगर गेंदबाज हाथ घुमाकर गेंद फेंकता है और उसके लिए पिच प्रयाप्त है तो वह कैसे भी गेंदबाजी कर सकता है|

#3. कैच आउट : गली क्रिकेट इस नियम में आम तौर पर कैच आउट इंटरनेशनल क्रिकेट की तरह ही होता है| लेकिन कई बार एक बाउंस (एक टिप्पे पर) पर एक हाथ से पकड़ने पर भी आउट करार दिया जाता है|

#4. बोल्ड: विकेट पर लगने या बीच में से जाने पर आउट (कई बार विकेट के बीच की दुरी ज्यादा होता है तो गेंद बीच में से निकल जाती है)

#5. गेंद छोड़ने पर आउट: लगातार 3 गेंद खाली जाने पर आउट या टेस्ट मैच में कुल 3 गेंद छोड़ने पर आउट| 2 गेंद छोड़ने तक ठीक है|

#6. स्टंप आउट: इंटरनेशनल क्रिकेट की तरह ही इसमें स्टंप आउट होता है लेकिन विकेटकीपर न होने की स्थिति में या पीछे दीवार होने पर खेलते वक्त पीछे वाला पैर उठाने (मतलब आगे आने और आगे बढ़ने से) पर भी आउट दे दिया जाता है| पीछे और साइड जाकर खेल सकते है|

#7. एलबीडब्ल्यू: ज्यादातर इस नियम गली क्रिकेट में नहीं होता अगर होता है तो इसका उपडेटेड वर्जन होता है| जिसमें विकेट के सामने खड़े होने पर पैर पर (कमर के निचे) कही भी लगने पर आउट हो जाता है|

Cricket News Hindi: सभी प्रकार की क्रिकेट न्यूज़, वर्ल्ड कप और लाइव स्कोर कार्ड CricTrace पर पायें | 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.