Gautam Gambhir vs MSK Prasad : अम्बाती रायडू को वर्ल्ड कप में शामिल नहीं करने को लेकर भिड़े

पूर्व भारतीय क्रिकेटर Gautam Gambhir vs MSK Prasad  (मुख्य चयनकर्ता) एक बार फिर आमने सामने हो गये| स्टार स्पोर्ट्स के शो “क्रिकेट कनेक्शन” में अम्बाती रायडू को लेकर गौतम गंभीर और MSK प्रसाद आमने सामने हो गये|

अम्बाती रायडू को वर्ल्ड कप 2019 में भारतीय टीम में शामिल नहीं करने के मुद्दे पर गंभीर ने चयनकर्ता प्रसाद की आलोचना की| वहीं MSK प्रसाद ने भी इस मुद्दे पर अपनी सफाई दी|

वर्ल्ड कप 2019 से पहले भारतीय टीम के लिए मिडल आर्डर में नंबर 4 पर सही बल्लेबाज चुनना मुश्किल होता जा रहा था| इससे पहले के एक साल में कई खिलाड़ियों को टीम में मौका देकर देखा गया| जिसमें अम्बाती रायडू ने सबसे अच्छा प्रदर्शन किया था|

वहीं वर्ल्ड कप 2019 में चयनकर्ताओं ने अम्बाती रायडू को नजरअंदाज करते हुए ऑलराउंडर विजय शंकर को मिडल आर्डर में वरीयता पर रखा और विश्वकप टीम में मौका दिया|

गौतम गंभीर सहित कई बड़े खिलाड़ियों को इस फैसले ने हैरान कर दिया, उसके बाद कई दिग्गज क्रिकेटरों ने बीसीसीआई की इस मुद्दे पर जमकर आलोचना की थी|

अपने आप को बार बार नजरअंदाज होते देख अम्बाती रायडू ने संन्यास लेने तक की घोषणा कर दी थी, जो बाद में शायद उन्होंने वापस ले ली थी|

यह भी पढ़ें:Indian Premier League (IPL) 2020 के भविष्य को लेकर BCCI अध्यक्ष गांगुली का ऐलान

Gautam Gambhir vs MSK Prasad : रायडू को लेकर हुई बहस के अंश-

Gautam Gambhir vs MSK Prasad
Gautam Gambhir vs MSK Prasad

गौतम गंभीर –

रायडू पर आने से पहले गंभीर ने कहा कि चयनकर्ताओं और खिलाड़ियों के बीच जब भी किसी खिलाड़ी को ड्रॉप किया जाता है तो एक संवाद की कमी नजर आती है|

गौतम गंभीर ने खुद के अलावा भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज करुण नायर, युवराज सिंह और सुरेश रैना ने प्रसाद को निशाने पर लिया।

गौतम गंभीर ने शो के दौरान कहा : ” जब मुझे 2016 में इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट के बाद हटा दिया गया था, तो कोई संवाद नहीं था। आप करुण नायर को देखें लें, जिन्होंने कहा है कि उन्हें कोई स्पष्टता नहीं दी गई है। यही नहीं आप सुरेश रैना को देखो, युवराज सिंह को देख लो”

“देखिए अंबाती रायडू के साथ क्या हुआ -आपने उसे दो साल तक उठाया। दो साल उन्होंने चौथे नंबर पर बल्लेबाजी की। और विश्व कप से ठीक पहले, आपको 3-डी (बल्लेबाजी, गेंदबाजी और फील्डिंग सभी में ऑलराउंडर) क्रिकेटर की आवश्यकता थी?”- गम्भीर ने पूछा|

यह भी पढ़ें: भारतीय गेंदबाज हरभजन सिंह, जो ऑस्ट्रेलियाई टीम को सबसे ज्यादा डराता था – रैना

MSK प्रसाद –

वहीं MSK प्रसाद ने इस पर अपनी सफाई देते हुए कहा, ” आप टीम की टॉप लाइन-अप देखें, हर कोई बल्लेबाज था – शिखर धवन, रोहित शर्मा, विराट कोहली, कोई भी ऐसा व्यक्ति नहीं था जो बल्लेबाजी के साथ गेंदबाजी भी कर सके। और विजय शंकर जैसा कोई व्यक्ति, जो शीर्ष क्रम में बल्लेबाजी करता है, अंग्रेजी परिस्थितियों में गेंद के साथ मददगार हो सकता है, ” -प्रसाद ने कहा।

MSK प्रसाद ने अपनी बात आगे बढाते हुए कहा कि विजय शंकर के घरेलु रिकॉर्ड शानदार है, और उन्हें उसी के आधार पर चुना गया है| पूर्व चयनकर्ता अध्यक्ष कृष्णमाचारी श्रीकांत, जो इस चर्चा का हिस्सा थे, इस मुद्दे पर इंटरनेशनल और घरेलु क्रिकेट के बीच के अंतर की और इशारा किया था| 

श्रीकांत ने कहा,” गौतम का समर्थन नहीं करता और न ही एमएसके महत्व कम करना मेरा उद्देश्य है, लेकिन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट और घरेलू क्रिकेट में बहुत अंतर है।”

“मैं चिका (कृष्णमाचारी श्रीकांत) से सहमत हूं कि अंतर है लेकिन आपको यह भी समझना होगा कि अनुभव हर समय एकमात्र पैरामीटर नहीं हो सकता (खिलाड़ियों को चुनने के लिए)। आप इस प्रक्रिया में कई खिलाड़ियों को याद कर सकते हैं,” एमएसके ने जवाब दिया।

यह भी पढ़ें: वनडे क्रिकेट 300 से अधिक रन बनाकर सबसे ज्यादा मैच जीतने वाली टॉप 5 टीमें

Cricket News Hindiसभी प्रकार की क्रिकेट न्यूज़वर्ल्ड कप और लाइव स्कोर कार्ड CricTrace पर पायें 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.